प्रधानमंत्री मोदी ने परीक्षा पे चर्चा 2022 के दौरान छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ बातचीत की

PM interacts with students, teachers and parents at Pariksha Pe Charcha 2022

“बिना किसी तनाव के उत्सव के मूड में परीक्षा के लिए उपस्थित हों”

“प्रौद्योगिकी को एक अवसर के रूप में लें, चुनौती के रूप में नहीं”

“राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लिए परामर्श विस्तृत रहा है। इस पर पूरे भारत के लोगों से सलाह ली गई”

“20वीं सदी की शिक्षा प्रणाली और अवधारणा 21वीं सदी में हमारे विकास पथ को निर्धारित नहीं कर सकती। हमें समय के साथ बदलना होगा”

“शिक्षकों और अभिभावकों के अधूरे सपनों को छात्रों पर नहीं थोपा जा सकता। बच्चों के लिए अपने स्वयं के सपनों का पालन करना महत्वपूर्ण है”

“प्रेरणा के लिए कोई इंजेक्शन या फॉर्मूला नहीं है। इसके बजाय, अपने आप को बेहतर तरीके से खोजें और पता करें कि आपको किससे खुशी मिलती है और उस पर काम करें”

“वही करें जो आपको पसंद हों और तभी आपको अधिकतम परिणाम मिलेगा”

“आप एक विशेष पीढ़ी के हैं। हां, प्रतिस्पर्धा ज्यादा है लेकिन मौके भी ज्यादा हैं”

“बेटी परिवार की ताकत होती है। जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में हमारी नारी शक्ति को उत्कृष्ट देखने से बेहतर क्या हो सकता है”

“दूसरों के गुणों की सराहना करने और उनसे सीखने की क्षमता विकसित करें”

“जब मैं आपसे जुड़ता हूं तो मुझे आपकी आकांक्षाओं और सपनों की झलक मिलती है और मैं अपने जीवन को उसके अनुसार ढालने की कोशिश करता हूं। इसलिए, यह कार्यक्रम मुझे आगे बढ़ने में मदद कर रहा है”

01 APR 2022

परीक्षापेचर्चा (पीपीसीके 5वेंसंस्करणमेंप्रधानमंत्रीश्रीनरेन्द्रमोदीने नईदिल्लीकेतालकटोरास्टेडियममेंछात्रोंशिक्षकोंऔरअभिभावकोंकेसाथबातचीतकी।बातचीतसेपहलेप्रधानमंत्रीनेकार्यक्रमस्थलपरप्रदर्शितछात्रोंकेप्रदर्शोंकानिरीक्षणकिया।इसअवसरपरकेंद्रीयमंत्रीश्रीधर्मेंद्रप्रधानश्रीमतीअन्नपूर्णादेवीडॉसुभाषसरकारडॉराजकुमाररंजनसिंहऔरश्रीराजीवचंद्रशेखरसहितराज्यपालोंऔरमुख्यमंत्रियोंशिक्षकोंछात्रोंऔरअभिभावकोंकीवर्चुअलतौरपरउपस्थितिथी।पूरीबातचीतकेदौरानप्रधानमंत्रीनेएकसंवादात्मकजोशीलाऔरसंवादीस्वरबनाएरखा।

सभाकोसंबोधितकरतेहुएप्रधानमंत्रीनेपिछलेसालवर्चुअलबातचीतकेबादअपनेयुवामित्रोंकोसंबोधितकरनेपरप्रसन्नताव्यक्तकी।उन्होंनेकहाकिपीपीसीउनकापसंदीदाकार्यक्रमहै।उन्होंनेकलविक्रमसंवतनववर्षकीशुरुआतकेबारेमेंबतायाऔरछात्रोंकोआनेवालेकईत्योहारोंकेलिएबधाईदी।प्रधानमंत्रीनेपीपीसीके 5वेंसंस्करणमेंएकनईप्रथाकीशुरुआतकी।उन्होंनेकहाकिउनकेद्वाराजोप्रश्नशामिलनहींकिएजासकतेहैंनमोऐपपरवीडियोऑडियोयाटेक्स्टमैसेजकेजरिएउनकेउत्तरदिएजाएंगे।

पहलासवालदिल्लीकीखुशीजैनसेआया।छत्तीसगढ़केबिलासपुरसेवडोदराकीकिनीपटेलनेभीपरीक्षाकोलेकरतनावऔरदबावकेबारेमेंपूछाप्रधानमंत्रीनेउनसेकहाकिवेतनावमेंनरहेंक्योंकियहउनकेद्वारादीजानेवालीपहलीपरीक्षानहींहै।उन्होंनेकहा, “एकतरहसेआपपरीक्षाप्रमाणितहैं।” पिछलीपरीक्षाओंसेउन्हेंजोअनुभवमिलाहैउससेउन्हेंआगामीपरीक्षाओंसेनिपटनेमेंमददमिलेगी।उन्होंनेकहाकिअध्ययनकाकुछहिस्साछूटसकताहैलेकिनउन्हेंइसपरजोरनदेनेकेलिएकहा।उन्होंनेसुझावदियाकिउन्हेंअपनीतैयारीकीताकतपरध्यानदेनाचाहिएऔरअपनेदिनप्रतिदिनकीदिनचर्यामेंतनावमुक्तऔरस्वाभाविकरहनाचाहिए।दूसरोंकीनकलकेरूपमेंकुछभीकरनेकीकोशिशकरनेकाकोईमतलबनहींहैलेकिनअपनीदिनचर्याकेसाथरहेंऔरउत्सवकीतरहनिश्चिंततासेकामकरें।

अगलाप्रश्नकर्नाटककेमैसूरकेतरुणसेथा।उन्होंनेपूछाकि YouTube, आदिजैसेध्यानभटकानेवालेकईऑनलाइनमाध्यमकेबावजूदअध्ययनकेएकऑनलाइनमोडकोकैसेआगेबढ़ायाजाए।दिल्लीकेशाहिदअलीतिरुवनंतपुरमकेरलकीकीर्तनाऔरकृष्णागिरीतमिलनाडुकेएकशिक्षकचंद्रचूड़ेश्वरनकेमनमेंभीयहीसवालथा।प्रधानमंत्रीनेकहाकिसमस्याऑनलाइनयाऑफलाइनअध्ययनकेतरीकोंसेनहींहै।ऑफ़लाइनअध्ययनमेंभीमनबहुतविचलितहोसकताहै।उन्होंनेकहा, “यहमाध्यमनहींबल्किमनहैजोसमस्याहै।” उन्होंनेकहाकिचाहेऑनलाइनहोयाऑफलाइनजबमनपढ़ाईमेंलगाहोतोध्यानभटकानेवालीचीजोंसेछात्रोंकोपरेशानीनहींहोगी।उन्होंनेकहाकिप्रौद्योगिकीविकसितहोगीऔरछात्रोंकोशिक्षामेंनईतकनीकोंकोअपनानाचाहिए।सीखनेकेनएतरीकोंकोएकअवसरकेरूपमेंलियाजानाचाहिएचुनौतीकेरूपमेंनहीं।ऑनलाइनआपकेऑफलाइनसीखनेकोबढ़ावादेसकताहै।उन्होंनेकहाकिऑनलाइनसंग्रहकेलिएहैऔरऑफलाइनपोषणकरनेतथाकामकरनेकेलिएहै।उन्होंनेडोसाबनानेकाउदाहरणदिया।कोईभीऑनलाइनडोसाबनानासीखसकताहैलेकिनतैयारीऔरखपतऑफलाइनहोगी।उन्होंनेकहाकिवर्चुअलदुनियामेंरहनेकीतुलनामेंअपनेबारेमेंसोचनेऔरखुदकेसाथरहनेमेंबहुतखुशीहै।

पानीपतहरियाणाकीएकशिक्षिकासुमनरानीनेपूछाकिनईशिक्षानीतिकेप्रावधानछात्रोंकेजीवनकोविशेषरूपसेऔरसमाजकोकैसेसशक्तबनाएंगेऔरयहकैसेनयेभारतकामार्गप्रशस्तकरेगा।पूर्वीखासीहिल्समेघालयकीशीलानेभीइसीतर्जपरप्रश्नपूछा।प्रधानमंत्रीनेकहाकियहएक ‘राष्ट्रीय‘ शिक्षानीतिहैनकि ‘नई‘ शिक्षानीति।उन्होंनेकहाकिविभिन्नहितधारकोंकेसाथविचारविमर्शकेबादनीतिकामसौदातैयारकियागयाथा।यहअपनेआपमेंएकरिकॉर्डहोगा। “राष्ट्रीयशिक्षानीतिकेलिएपरामर्शविस्तृतरहाहै।इसपरपूरेभारतकेलोगोंसेसलाहलीगई।” उन्होंनेआगेकहायहनीतिसरकारनेनहींबल्किनागरिकोंछात्रोंऔरइसकेशिक्षकोंनेदेशकेविकासकेलिएबनाईहै।उन्होंनेकहाकिपहलेशारीरिकशिक्षाऔरप्रशिक्षणपाठ्येतरगतिविधियांथीं।लेकिनअबवेशिक्षाकाहिस्साबनगएहैंऔरनईप्रतिष्ठाप्राप्तकररहेहैं।उन्होंनेकहाकि 20वींसदीकीशिक्षाप्रणालीऔरअवधारणा 21वींसदीमेंहमारेविकासपथकोनिर्धारितनहींकरसकती।उन्होंनेकहाकिअगरहमबदलतीप्रणालियोंकेसाथविकसितनहींहुएतोहमपीछेछूटजाएंगेऔरपीछेकीओरचलेजाएंगे।उन्होंनेकहाकिराष्ट्रीयशिक्षानीतिकिसीकेजुनूनकाअनुसरणकरनेकाअवसरदेतीहै।उन्होंनेज्ञानकेसाथकौशलकेमहत्वपरजोरदिया।उन्होंनेकहाकिराष्ट्रीयशिक्षानीतिकेहिस्सेकेरूपमेंकौशलकोशामिलकरनेकायहीकारणहै।उन्होंनेविषयोंकेचुनावमेंराष्ट्रीयशिक्षानीति (एनईपीद्वाराप्रदानकिएगएलचीलेपनकेबारेमेंभीबताया।उन्होंनेकहाकिएनईपीकेउचितक्रियान्वयनसेनएअवसरतैयारहोंगे।उन्होंनेपूरेदेशकेस्कूलोंसेछात्रोंद्वाराआविष्कृतनईतकनीकोंकोलागूकरनेकेनएतरीकेखोजनेकाआग्रहकिया।

गाजियाबादयूपीकीरोशनीनेपूछाकिपरिणामोंकेबारेमेंअपनेपरिवारकीअपेक्षाओंसेकैसेनिपटेंऔरक्यामातापिताद्वारामहसूसकीगईशिक्षाकोगंभीरतासेलेनाहैयाइसेउत्सवकेरूपमेंआनंदलेनाहै।भटिंडापंजाबकीकिरणप्रीतकौरनेइसीतरहसेसवालपूछा।प्रधानमंत्रीनेअभिभावकोंऔरशिक्षकोंसेकहाकिवेअपनेसपनोंकोछात्रोंपरथोपेंनहीं।प्रधानमंत्रीनेकहा, “शिक्षकोंऔरअभिभावकोंकेअधूरेसपनोंकोछात्रोंपरनहींथोपाजासकता।प्रत्येकबच्चेकेलिएअपनेस्वयंकेसपनोंकापालनकरनामहत्वपूर्णहै।” उन्होंनेमातापिताऔरशिक्षकोंसेयहस्वीकारकरनेकाआग्रहकियाकिप्रत्येकछात्रमेंकोईनकोईविशेषक्षमताहोतीहैऔरउसकापतालगनाचाहिए।उन्होंनेछात्रसेकहाकिअपनीताकतकोपहचानेंऔरआत्मविश्वासकेसाथआगेबढ़ें।

दिल्लीकेवैभवकन्नौजियानेपूछाकिजबहमारेपासअधिकबैकलॉगहैतोकैसेप्रेरितरहेंऔरसफलहों।ओडिशाकेमातापितासुजीतकुमारप्रधानजयपुरकीकोमलशर्माऔरदोहाकेएरोनएबेननेभीइसीविषयपरसवालपूछाथा।प्रधानमंत्रीनेकहा, “प्रेरणाकेलिएकोईइंजेक्शनयाफॉर्मूलानहींहै।इसकेबजायअपनेआपकोबेहतरतरीकेसेखोजेंऔरपताकरेंकिआपकोकिससेखुशीमिलतीहैऔरवहीकामकरें।” उन्होंनेछात्रोंसेउनचीजोंकीपहचानकरनेकेलिएकहाजोउन्हेंस्वाभाविकरूपसेप्रेरितकरतीहैंउन्होंनेइसप्रक्रियामेंस्वायत्ततापरजोरदियाऔरछात्रोंसेकहाकिवेअपनेसंकटोंकेलिएसहानुभूतिप्राप्तकरनेकाप्रयासनकरें।उन्होंनेछात्रोंकोअपनेआसपासदेखनेकीसलाहदीकिकैसेबच्चेदिव्यांगऔरप्रकृतिअपनेलक्ष्योंकोप्राप्तकरनेकाप्रयासकरतेहैं।उन्होंनेकहा, “हमेंअपनेपरिवेशकेप्रयासोंऔरशक्तियोंकानिरीक्षणकरनाचाहिएऔरउनसेप्रेरणालेनीचाहिए।” उन्होंनेअपनीपुस्तकएग्जामवॉरियरसेयहभीयादकियाकिकैसे ‘परीक्षा‘ केलिएएकपत्रलिखकरऔरअपनीताकतऔरतैयारीकेसाथपरीक्षाकोचुनौतीदेकरप्रेरितमहसूसकियाजासकताहै।

तेलंगानाकेखम्ममकीअनुषानेकहाकिवहविषयोंकोसमझतीहैंजबशिक्षकउन्हेंपढ़ातेहैंलेकिनथोड़ीदेरबादभूलजातेहैंकिइससेकैसेनिपटनाहै।गायत्रीसक्सेनानेनमोएपकेजरिएयाददाश्तऔरसमझकोलेकरभीसवालकिया।प्रधानमंत्रीनेकहाकिअगरचीजोंकोपूरेध्यानसेसीखाजाएगातोकुछभीनहींभुलायाजासकेगा।उन्होंनेछात्रसेवर्तमानमेंपूरीतरहउपस्थितरहनेकोकहा।वर्तमानकेबारेमेंयहसचेतनताउन्हेंबेहतरढंगसेसीखनेऔरयादरखनेमेंमददकरेगी।उन्होंनेकहाकिवर्तमानसबसेबड़ा ‘वर्तमान‘ हैऔरजोवर्तमानमेंरहताहैऔरउसेपूरीतरहसेसमझताहैवहजीवनकाअधिकतमलाभउठाताहै।उन्होंनेउनसेस्मृतिकीशक्तिकोसंजोनेऔरउसकाविस्तारकरतेरहनेकोकहा।उन्होंनेयहभीकहाकिएकस्थिरदिमागचीजोंकोयादकरनेकेलिएसबसेउपयुक्तहै।

झारखंडकीश्वेताकुमारीनेकहाकिवहरातमेंपढ़नापसंदकरतीहैंलेकिनदिनमेंपढ़नेकेलिएकहाजाताहै।राघवजोशीनेनमोएपकेजरिएपढ़ाईकेलिएउचितसमयसारिणीकेबारेमेंभीपूछा।प्रधानमंत्रीनेकहाकिकिसीकेप्रयासकेपरिणामकामूल्यांकनकरनाऔरसमयकैसेव्यतीतकियाजारहाहैइसकामूल्यांकनकरनाअच्छाहै।उन्होंनेकहाकिआउटपुटऔरपरिणामकाविश्लेषणकरनेकीयहआदतशिक्षाकाएकमहत्वपूर्णहिस्साहै।उन्होंनेकहाकिअक्सरहमउनविषयोंकेलिएअधिकसमयदेतेहैंजोहमारेलिएआसानऔररुचिकरहोतेहैं।उन्होंनेकहाकिइसकेलिए ‘मनदिलऔरशरीरकीधोखाधड़ी‘ परकाबूपानेकेलिएजानबूझकरप्रयासकरनेकीआवश्यकताहै।उन्होंनेकहा, “ऐसीचीजेंकरेंजोआपकोपसंदहोंऔरतभीआपकोअधिकतमपरिणाममिलेगा।

जम्मूकश्मीरकेउधमपुरकीएरिकाजॉर्जनेपूछाकिउनलोगोंकेलिएक्याकियाजासकताहैजोजानकारहैंलेकिनकुछकारणोंसेसहीपरीक्षामेंशामिलनहींहोपाए।गौतमबुद्धनगरकेहरिओममिश्रानेपूछाकिउन्हेंप्रतियोगीपरीक्षाओंऔरबोर्डपरीक्षाकेलिएअध्ययनकीमांगोंकोकैसेसंभालनाचाहिए।प्रधानमंत्रीनेकहाकिपरीक्षाकेलिएपढ़नागलतहै।उन्होंनेकहाकिअगरकोईपूरेमनसेपाठ्यक्रमकाअध्ययनकरताहैतोअलगअलगपरीक्षाएंमायनेनहींरखतीहैं।उन्होंनेकहाकिपरीक्षाउत्तीर्णकरनेकेबजायविषयमेंमहारतहासिलकरनेकालक्ष्यरखनाचाहिए।उन्होंनेआगेकहाकिएथलीटखेलकेलिएप्रशिक्षणलेतेहैंनकिप्रतियोगिताकेलिए।उन्होंनेकहा, “आपएकविशेषपीढ़ीकेहैं।हांप्रतिस्पर्धाअधिकहैलेकिनअवसरभीअधिकहैं।” उन्होंनेछात्रसेप्रतियोगिताकोअपनेसमयकासबसेबड़ाउपहारमाननेकेलिएकहा।

गुजरातकेनवसारीकेमातापितासीमाचेतनदेसाईनेप्रधानमंत्रीसेपूछाकिग्रामीणलड़कियोंकेउत्थानमेंसमाजकैसेयोगदानदेसकताहै।श्रीमोदीनेकहाकिजबसेलड़कियोंकीशिक्षाकोनजरअंदाजकियागयातबसेलेकरअबतकस्थितिमेंकाफीबदलावआयाहै।उन्होंनेजोरदेकरकहाकिलड़कियोंकीउचितशिक्षासुनिश्चितकिएबिनाकोईभीसमाजसुधारनहींकरसकताहै।उन्होंनेकहाकिबेटियोंकेअवसरोंऔरसशक्तिकरणकोसंस्थागतबनायाजानाचाहिए।लड़कियांअधिकमूल्यवानसंपत्तिबनरहीहैंऔरयहबदलावस्वागतयोग्यहै।उन्होंनेकहाकिआजादीकाअमृतमहोत्सवकेवर्षमेंस्वतंत्रभारतकेइतिहासमेंभारतमेंसबसेअधिकसंसदसदस्यहैं।प्रधानमंत्रीनेकहा, “बेटीपरिवारकीताकतहोतीहै।जीवनकेविभिन्नक्षेत्रोंमेंहमारीनारीशक्तिकोउत्कृष्टदेखनेसेबेहतरऔरक्याहोसकताहै।

दिल्लीकीपवित्रारावनेपूछाकिनईपीढ़ीकोपर्यावरणकीसुरक्षामेंयोगदानकेलिएक्याकरनाचाहिएचैतन्यनेपूछाकिअपनीकक्षाऔरपर्यावरणकोस्वच्छऔरहराभराकैसेबनायाजाए।प्रधानमंत्रीनेछात्रोंकोधन्यवाददियाऔरइसदेशकोस्वच्छऔरहराभराबनानेकाश्रेयउन्हेंदिया।बच्चोंनेविरोधियोंकीअवहेलनाकीऔरप्रधानमंत्रीकीस्वच्छताकीप्रतिज्ञाकोसहीमायनेमेंसमझा।उन्होंनेकहाकिहमजिसपर्यावरणकाआनंदलेरहेहैंवहहमारेपूर्वजोंकेयोगदानकेकारणहै।इसीतरहहमेंआनेवालीपीढ़ीकेलिएभीएकबेहतरमाहौलछोड़नाचाहिए।उन्होंनेकहाकियहनागरिकोंकेयोगदानसेहीसंभवहोसकताहै।उन्होंने “पीमूवमेंट” – प्रोप्लैनेटपीपलएंडलाइफस्टाइलफॉरदएनवायरनमेंट– लाइफकेमहत्वपरजोरदिया।उन्होंनेकहाकिहमें ‘यूजएंडथ्रो‘ संस्कृतिसेदूरहोकरसर्कुलरइकोनॉमीकीजीवनशैलीकीओरबढ़नाहोगा।प्रधानमंत्रीनेअमृतकालकेमहत्वपरजोरदियाजोदेशकेविकासमेंछात्रकेसर्वोत्तमवर्षोंकेसाथमेलखाताहै।उन्होंनेकर्तव्यपालनकेमहत्वपरभीबलदिया।उन्होंनेटीकाकरणमेंअपनाकर्तव्यनिभानेकेलिएछात्रोंकीप्रशंसाकी।

अंतमेंप्रधानमंत्रीनेकार्यक्रमकासंचालनकरनेवालेछात्रोंकोबुलायाऔरउनकेकौशलऔरआत्मविश्वासकीसराहनाकी।उन्होंनेदूसरोंमेंगुणोंकीसराहनाकरनेऔरउनसेसीखनेकीक्षमताविकसितकरनेकीआवश्यकताकोदोहराया।हमेंईर्ष्याकेबजायसीखनेकीप्रवृत्तिरखनीचाहिए।जीवनमेंसफलताकेलिएयहक्षमतामहत्वपूर्णहै।

उन्होंनेअपनेलिएपीपीसीकेमहत्वकोस्वीकारकरतेहुएएकव्यक्तिगतटिप्पणीपरनिष्कर्षनिकाला।उन्होंनेकहाकिजबवेयुवाछात्रोंकेसाथबातचीतकरतेहैंतोवे 50 सालछोटेमहसूसकरतेहैं।एकस्पष्टरूपसेउत्साहितप्रधानमंत्रीनेनिष्कर्षकेरूपमेंबताया, “मैंआपकीपीढ़ीकेसाथजुड़करआपसेसीखनेकीकोशिशकरताहूं।जैसेजैसेमैंआपसेजुड़ताहूंमुझेआपकीआकांक्षाओंऔरसपनोंकीझलकमिलतीहैऔरमैंअपनेजीवनकोउसकेअनुसारढालनेकीकोशिशकरताहूं।इसलिएयहकार्यक्रममुझेबढ़नेमेंमददकररहाहै।मुझेअपनीमददकरनेऔरबढ़नेकेलिएसमयदेनेकेलिएमैंआपसभीकाधन्यवादकरताहूं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.