EPCH बिजनेस वीजा पर भारत आने वाले ब्रिटिश नागरिकों के लिए अनिवार्य क्वारंटाइन से छूट की मांग की

EPCH SEEKS EXEMPTION FROM MANDATORY QUARANTINE FOR BRITISH NATIONALS ARRIVING IN INDIA ON BUSINESS VISA

2अक्टूबर,2021

नईदिल्ली – भारत सरकार ने ब्रिटेन में आने वाले भारतीय नागरिकों पर लागू किए जा रहे समान नियमों के जवाब में प्रतिक्रिया करते हुए 4अक्टूबर2021 (सोमवार) से भारत आने वाले सभी ब्रिटिश नागरिकों के लिए दस दिनों के अनिवार्य क्वारंटाइन की घोषणा की।

श्री राजकुमार मल्होत्रा, अध्यक्ष-ईपीसीएच ने भारत सरकार के हालिया नीतिगत निर्णय से अवगत कराया कि’ भारत में आने वाले सभी ब्रिटिश नागरिकों के लिए दस दिन अनिवार्य क्वारंटाइन की वजह से हस्तशिल्प निर्यातकों को एक भौतिक विपणन मंच प्रदान करने की EPCH की पहल को प्रभावित करेगाI IHGF Fair का उद्देश्य अर्थव्यवस्था में बहोतरी का मार्ग प्रशस्त करना और कारीगरों के लिए लाभकारी रोजगार सृजित करना है। आगे जोड़ते हुए, उन्होंने कहा,परिषद ने भारत के प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री, नागरिक उड्डयन मंत्री, विदेश मंत्री से SOS अपील की कि जो ब्रिटिश व्यापारिक नागरिक BUSINESS VISA के साथ विशेष रूप से भारतीय प्रदर्शनियों से खरीद के लिए आरहे हैं उन्हे 10 दिनों के अनिवार्य क्वारंटाइन से छूट दी जाए। https://twitter.com/epchindia/status/1444169510819229696?s=08

डॉ. राकेशकुमार, महानिदेशक-ईपीसीएच  ने बताया कि इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट, ग्रेटर नोएडा में 52वें आईएचजीएफ दिल्ली मेले का आयोजन फिजिकल मोड में 28-31 अक्टूबर, 2021 तक कर रहीहै। मेले का आयोजन डब्ल्यूएचओ और भारत सरकार द्वारा जारी किए गए B2B व्यापार प्रदर्शनी के आयोजन के लिए सभी आवश्यक सुरक्षा प्रोटोकॉल और SOP के साथ किया जाएगा, जिसमें ब्रिटेन के खरीदारों सहित दुनिया भर से विदेशी खरीदारों के अपनी आवश्यकता की सोर्सिंग के लिए आने की उम्मीद है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि व्यापार प्रदर्शनियां आर्थिक विकास के इंजन हैं जो पूरे देश में व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देने के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करते हैं। इस तरह के मेले को भौतिक रूप में आयोजित करने का  यह एक उपयुक्त समय है जब हम पिछले डेढ़ वर्षों में जीवन और आजीविका को प्रभावित करने वाली COVID-19 महामारी की समग्र स्थिति में धीरे-धीरे सुधार देख रहे हैं। यह महामारी के 18 महीने बाद व्यावसायिक गतिविधियों के सामान्य होने की शुरुआत है। परिषद को विदेशी खरीदारों के साथ-साथ भारतीय प्रदर्शकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिलीहै।,डॉ. कुमार द्वारा सूचित किया ।

चालूवित्तवर्ष 2020-21 के अप्रैल-मार्च के लिए हस्तशिल्प का निर्यात रुपये 25679.98 करोड़ (यूएस $ 3459.75 मिलियन) है, जो 1.62% (रुपयेमें) और (-) 2.93% (डॉलरमें) की मामूली वृद्धि दर्ज करता है। हालां कि, चालू वित्त वर्ष 2021-22 के अप्रैल-अगस्त के अनंतिम आंकड़े रुपये 12342.66 करोड़ (USD 1667.54 मिलियन) पर 71.77% (रुपयामें) और 75.57% (डॉलरमें) की वृद्धि दर्ज की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.