आईएनएस विशाखापत्तनम नौसेना डॉकयार्ड मुंबई में भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया

INS Visakhapatnam commissioned into Indian Navy

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में आईएनएस विशाखापत्तनम नौसेना डॉकयार्ड, मुंबई में भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया

स्वदेश में विकसित मिसाइल विध्वंसक आधुनिक निगरानी रडार के साथ अत्याधुनिक हथियारों एवं सेंसरों से लैस

रक्षा मंत्री ने इसे भारत की बढ़ती समुद्री ताक़त का प्रतीक बताया

21 NOV 2021

रक्षा मंत्री के उद्बोधन की प्रमुख बातें:

· आईएनएस विशाखापत्तनम समुद्री सुरक्षा को मजबूत करेगा और राष्ट्रीय हितों की रक्षा करेगा

· ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ को प्राप्त करने की दिशा में एक विशाल छलांग

· सार्वजनिक-निजी भागीदारी जल्द ही भारत को एक वैश्विक जहाज निर्माण केंद्र बनाएगी

· भारतीय नौसेना का प्राथमिक उद्देश्य हिंद-प्रशांत को खुला, सुरक्षित क्षेत्र बनाए रखना है

· हम एक नियम आधारित हिंद-प्रशांत क्षेत्र की कल्पना करते हैं जिसमें सभी प्रतिभागी देशों के हितों की रक्षा हो

· स्थिरता एवं आर्थिक प्रगति के लिएसमुद्र में नौवहन की नियम आधारित आज़ादी तथा सामुद्रिक गलियारों की सुरक्षा जरूरी

आईएनएस विशाखापत्तनम, जो एक पी15बी स्टील्थ गाइडेड मिसाइल विध्वंसक है, को रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में दिनांक 21 नवंबर, 2021 को नेवल डॉकयार्ड, मुंबई में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया । यह आयोजन स्वदेशी रूप से भारतीय नौसेना के इन-हाउस संगठन नौसेना डिजाइन निदेशालय द्वारा डिजाइन किए गए और मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड, मुंबई द्वारा निर्मित
विशाखापत्तनम श्रेणी के चार में से पहले विध्वंसक के नौसेना में औपचारिक रूप से शामिल किए जाने का प्रतीक है ।

अपने संबोधन में रक्षा मंत्री ने आईएनएस विशाखापत्तनम को देश की बढ़ती समुद्री शक्ति का प्रतीक और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ के दृष्टिकोण को प्राप्त करने में एक मील का पत्थर बताया। उन्होंने कहा कि यह पोत प्राचीन और मध्यकालीन भारत की समुद्री शक्ति, जहाज निर्माण कौशल और गौरवशाली इतिहास की याद दिलाता है। श्री राजनाथ सिंह ने विश्वास व्यक्त किया कि नवीनतम प्रणालियों और हथियारों से लैस यह अत्याधुनिक जहाज समुद्री सुरक्षा को मजबूत करेगा और राष्ट्र के हितों की रक्षा करेगा। उन्होंने इस जहाज को दुनिया में सबसे तकनीकी रूप से उन्नत गाइडेड मिसाइल विध्वंसक के रूप में परिभाषित किया जो सशस्त्र बलों और पूरे राष्ट्र की वर्तमान एवं भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करेगा।

श्री राजनाथ सिंह ने आत्मनिर्भरता की दिशा में भारतीय नौसेना के प्रयासों की प्रशंसा की, तथा 41 जहाजों और पनडुब्बियों में से 39 के भारतीय शिपयार्ड से नौसेना के आदेश को ‘आत्मनिर्भर भारत’ प्राप्त करने में उसकी प्रतिबद्धता के एक वसीयतनामा बताते हुए भारतीय नौसेना के आत्मनिर्भरता की दिशा में किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने स्वदेशी विमानवाहक पोत ‘आईएनएस विक्रांत’ के निर्माण को ‘आत्मनिर्भर भारत’ प्राप्त करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर बताया । उन्होंने कहा, “यह विमानवाहक हिंद महासागर से प्रशांत महासागर और अटलांटिक महासागर तक हमारी पहुंच बढ़ाएगा। इसकी कमीशनिंग भारतीय रक्षा के इतिहास में एक स्वर्णिम क्षण होगा। यह भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ और 1971 के युद्ध में भारत की जीत की 50वीं वर्षगांठ मनाने का सबसे अच्छा अवसर होगा।”

रक्षा मंत्री ने उद्योगों के विभिन्न आउटरीच कार्यक्रमों में भाग लेने और ‘फ्लोट’, ‘मूव’ और ‘फाइट’ श्रेणियों के तहत स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना के निरंतर प्रयासों की प्रशंसा की। गति को बनाए रखने की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि “सरकार द्वारा उठाए गए कदम आत्मनिर्भरता के प्रयासों को बढ़ावा देना जारी रखेंगे और हम जल्द ही न केवल भारत के लिए, बल्कि पूरी दुनिया के लिए जहाजों का निर्माण करेंगे।” उन्होंने इस दृष्टिकोण को प्राप्त करने के लिए सरकार के निरंतर साथ का आश्वासन दिया।

यह कहते हुए कि वैश्विक सुरक्षा कारणों, सीमा विवादों और समुद्री प्रभुत्व ने दुनिया के देशों को अपनी सैन्य शक्ति को मजबूत करने पर बाध्य किया है, श्री राजनाथ सिंह ने सार्वजनिक और निजी क्षेत्र को सरकार की नीतियों का लाभ उठाने, मिलकर काम करने और भारत को एक स्वदेशी जहाज निर्माण केंद्र बनाने का आह्वान किया। उन्होंने सरकार द्वारा किए गए कई सुधारों का ज़िक्र किया जिसके माध्यम से सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपनी पहचान बना सकती हैं। इन कदमों में लाइसेंसिंग प्रक्रिया का सरलीकरण; आवश्यकता की स्वीकृति (एओएन) और प्रस्ताव के लिए अनुरोध (आरएफपी) प्रक्रिया में तेजी लाना; उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में रक्षा औद्योगिक गलियारों की स्थापना; 200 से अधिक वस्तुओं की सकारात्मक स्वदेशी सूची; रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 और घरेलू कंपनियों से खरीद के लिए 2021-22 के पूंजी अधिग्रहण बजट के तहत अपने आधुनिकीकरण कोष का लगभग 64 प्रतिशत हिस्सा; जैसे कदम शामिल हैं ।

रक्षा मंत्री ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र को खुला और सुरक्षित रखने की आवश्यकता पर जोर देते हुए इसे भारतीय नौसेना का प्राथमिक उद्देश्य बताया। उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत के हित सीधे हिंद महासागर से जुड़े हुए हैं और यह क्षेत्र विश्व अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने आगे कहा, “समुद्री डोमेन को प्रभावित करने के लिए समुद्री डकैती, आतंकवाद, हथियारों और नशीले पदार्थों की अवैध तस्करी, मानव तस्करी, अवैध मछली पकड़ने और पर्यावरण को नुकसान जैसी चुनौतियां समान रूप से जिम्मेदार हैं। इसलिए पूरे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारतीय नौसेना की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है।” रक्षा मंत्री ने विश्व की स्थिरता, आर्थिक प्रगति और विकास सुनिश्चित करने के लिए वैश्वीकरण के वर्तमान युग में नौवहन की नियम-आधारित स्वतंत्रता और समुद्री मार्गों की सुरक्षा के महत्व को रेखांकित किया ।

श्री राजनाथ सिंह ने दोहराया कि भारत, एक जिम्मेदार समुद्री हितधारक के रूप में, सर्वसम्मति-आधारित सिद्धांतों और शांतिपूर्ण, खुली, नियम-आधारित और स्थिर समुद्री व्यवस्था का समर्थक है । 1982 के ‘संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन ऑन द लॉ ऑफ द सी’ (यूएनसीएलओएस) में, देशों के क्षेत्रीय जल, विशेष आर्थिक क्षेत्र और ‘समुद्र में अच्छी व्यवस्था’ के सिद्धांत को प्रतिपादित किया गया है। कुछ गैर-जिम्मेदार राष्ट्र, अपने संकीर्ण पक्षपातपूर्ण हितों के लिए, इन अंतरराष्ट्रीय कानूनों की आधिपत्य की प्रवृत्तियों से नई और अनुचित व्याख्याएं देते रहते हैं। मनमानी व्याख्याएं नियम-आधारित समुद्री व्यवस्था के मार्ग में बाधा उत्पन्न करती हैं।
उन्होंने कहा, “हम नेविगेशन की स्वतंत्रता, मुक्त व्यापार और सार्वभौमिक मूल्यों के साथ एक नियम-आधारित हिंद प्रशांत क्षेत्र की कल्पना करते हैं, जिसमें सभी भाग लेने वाले देशों के हितों की रक्षा की जाती है ।”

रक्षा मंत्री ने पड़ोसियों के साथ मित्रता, खुलेपन, संवाद और सह-अस्तित्व की भावना के साथ सागर (क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा एवं विकास) के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाने के लिए भारतीय नौसेना की सराहना की।

आईएनएस विशाखापत्तनम की लंबाई 163 मीटर, चौड़ाई 17 मीटर है और विस्थापन की इसकी क्षमता 7,400 टन है और इसे भारत में निर्मित सबसे शक्तिशाली युद्धपोतों में से एक माना जा सकता है। जहाज को एक कंबाइंड गैस एंड गैस (सीओजीएजी) विन्यास में चार शक्तिशाली गैस टर्बाइनों द्वारा संचालित किया जाता है, जो 30 समुद्री मील से अधिक गति प्राप्त करने में सक्षम है। जहाज ने स्टील्द विशेषताओं को बढ़ाया है जिसके परिणामस्वरूप घटा हुआ राडार क्रॉस सेक्शन, फुल बीम सुपरस्ट्रक्चर डिजाइन, प्लेटेड मस्तूल सुनिश्चित किए जा सके हैं, साथ ही खुले हुए डेक पर राडार पारदर्शी सामग्री का इस्तेमाल भी किया गया है ।

जहाज अत्याधुनिक हथियारों और सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल और सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल जैसे सेंसर से लैस है। यह एक आधुनिक निगरानी रडार से सुसज्जित है जो जहाज के तोपखाने की हथियार प्रणालियों को टारगेट डेटा प्रदान करता है। पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमताएं स्वदेशी रूप से विकसित रॉकेट लॉन्चर, टारपीडो लॉन्चर और एएसडब्ल्यू हेलीकॉप्टरों द्वारा प्रदान की जाती हैं। जहाज परमाणु, जैविक और रासायनिक (एनबीसी) युद्ध की स्थितियों के तहत लड़ने के लिए सुसज्जित है।

इस जहाज की एक अनूठी विशेषता उत्पादन में शामिल उच्च स्तर का स्वदेशीकरण है, जो ‘आत्मनिर्भर भारत’ केराष्ट्रीय उद्देश्य पर जोर देता है । आईएनएस विशाखापत्तनम के कुछ प्रमुख स्वदेशी उपकरण/सिस्टम में कॉम्बैट मैनेजमेंट सिस्टम, रॉकेट लॉन्चर, टॉरपीडो ट्यूब लॉन्चर, इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म मैनेजमेंट सिस्टम, ऑटोमेटेड पावर मैनेजमेंट सिस्टम, फोल्डेबल हैंगर डोर्स, हेलो ट्रैवर्सिंग सिस्टम, क्लोज-इन वेपन सिस्टम और बो माउंटेड सोनार शामिल हैं ।

पूर्वी तट पर आंध्र प्रदेश के ऐतिहासिक शहर, विशाखापत्तनम- ‘द सिटी ऑफ डेस्टिनी’ के नाम पर इस जहाज में लगभग 315 कर्मी हैं। चालक दल के लिए अधिक सुविधा आईएनएस विशाखापत्तनम की एक महत्वपूर्ण विशेषता है, जिसे ‘मॉड्यूलर’ अवधारणाओं के आधार पर एर्गोनॉमिक रूप से डिज़ाइन किए गए एकोमोडेशन के माध्यम से सुनिश्चित किया गया है । यह जहाज नेविगेशन और डायरेक्शन विशेषज्ञ कैप्टन बीरेंद्र सिंह बैंस की कमान में होगा ।

हिंद महासागर क्षेत्र में बदलते शक्ति समीकरणों के साथ आईएनएस विशाखापत्तनम अपने कार्यों और लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए भारतीय नौसेना की गतिशीलता, पहुंच और लचीलेपन को बढ़ाएगा ।

नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह, संसद सदस्य श्री अरविंद सावंत, फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, पश्चिमी नौसेना कमान वाइस एडमिरल आर हरि कुमार, अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड वाइस एडमिरल नारायण प्रसाद (सेवानिवृत्त) और आईएनएस विशाखापत्तनम के कमीशनिंग समारोह के दौरान रक्षा मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ नागरिक तथा सैन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.