इंडियन लॉयर्स एसोसिएशन का सम्मेलन रोहतक में संपन्न हुआ

The Indian Lawyers Association's Conference concluded in Rohtak.

इंडियन लॉयर्स एसोसिएशन के सम्मेलन में उठे लंबित केसो को जल्द निपटाने की मांग

रोहतक (21 अप्रैल) : इंडियन लॉयर्स एसोसिएशन और महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी के संयुक्त तत्वाधान में राधाकृष्णन ऑडिटोरियम में एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें भारत देश में न्याय व्यवस्था के भविष्य और प्रगति पर चर्चा की गई। कार्यक्रम में देश और विदेश के वरिष्ठ अधिवक्ताओं ने शिरकत की और अपने विचार रखे । इंडियन लॉयर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष नवीन आर्य ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए कहा कि इस कार्यक्रम का एक और मुख्य उद्देश्य विश्वविद्यालय और एसोसिएशन के बीच सौहार्दपूर्ण माहौल तैयार करने का भी था। उन्होंने बताया कि सम्मेलन में मुख्य अतिथि विश्वविद्यालय कुलपति प्रोफेसर राजवीर सिंह रहे साथ ही विशिष्ट अतिथि जिला एवं सेशन जज एएस नारंग व नगर निगम रोहतक से मेयर मनमोहन गोयल व कैलिफोर्निया से विशेष तौर पर पधारे अधिवक्ता नवीन चुघ रहे। नवीन आर्य ने बताया कि कार्यक्रम में अधिवक्ताओं के पांच अलग-अलग पैनलों ने अपने विषयों पर विस्तृत रूप से चर्चा की। जिसमें मुख्य रूप से कॉरपोरेट जगत, आयकर विभाग, नए कारोबार शुरू करने संबंधित ,मुकदमेंबाजी से जुड़े जरूरी तथ्य तथा न्यायपालिका में कैरियर बनाने संबंधित जरूरी जानकारी दी गई, साथ ही सभी वक्ताओं ने एक स्वर में अदालतों में पड़े 3.23 करोड़ लंबित केसो को जल्द से जल्द निपटाने की बात कही गयी। वक्ताओं ने कहा की अदालती मामलों में हो रही देरी आम आदमी के लिए एक बड़ी परेशानी का कारण बनती है। वक्ताओं ने बताया कि 2.4 करोड़ केस देश के निचली अदालतों में 43 लाख उच्च न्यायालयों में व 60000 मामले उच्चतम न्यायालय में लंबित है, जो न्याय व्यवस्था की अस्मिता पर एक बड़ा दाग है। नवीन आर्य ने बताया कि इसी के साथ ही देश की न्यायपालिकाओं में महिलाओं की ज्यादा से ज्यादा भागीदारी सुनिश्चित करने की बात की गई, साथ ही वरिष्ठ अधिवक्ताओं ने युवा वकीलों को जरूरी टिप्स भी दिए। उन्होंने कहा कि अदालती शरण में आया हर पीड़ित व्यक्ति वकील की तरफ से आशा भरी नजरों से देखता है, इसलिए जरूरी है कि आप पीड़ित के साथ एक भावनात्मक संबंध रखें ताकि वह अपने परेशानियों से आपको अवगत करवा सकें। इस मौके पर एडवोकेट सिद्धार्थ बत्रा सुप्रीम कोर्ट, संजीव शर्मा लूथरा एंड लूथरा पार्टनर, एडवोकेट विक्रम हेगड़े सुप्रीम कोर्ट, गुरमीत सिंह क्वींसलैंड, डॉ ऋषि कुलश्रेष्ठ दिल्ली उच्च न्यायालय, एडवोकेट शौर्या एम तोमर दिल्ली उच्च न्यायालय, प्रोफेसर एस दलाल, डॉक्टर नरेश शर्मा, प्रोफेसर वेदपाल सहित सैकड़ों की संख्या में अधिवक्ता और विश्वविद्यालय के गणमान्य लोग मौजूद रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.