उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू की वियतनाम यात्रा

Visit of Vice President Mr. M. Venkaiah Naidu to Vietnam

उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने भारत-वियतनाम संबंधों को मजबूत बनाने का आह्वान किया;

वियतनाम के प्रधानमंत्री के साथ कई मुद्दों पर की वार्ता;

उपराष्ट्रपति ने उपग्रह निर्माण और अन्य क्षेत्रों में भारत की विशेषज्ञता प्रदान करने का दिया प्रस्ताव;

भारतीय फार्मा कंपनियों को वियतनाम में कार्य करने के लिए समर्थन देने का किया अनुरोध;

भारतीय दूतावास में ‘जयपुर फुट आर्टिफिशियल लिम्ब फिटमेंट कैंप’  का उद्घाटन किया

वियतनाम नेशनल असेंबली की अध्यक्ष द्वारा आयोजित गाला रात्रिकालीन भोज में शामिल हुए

 11 MAY 2019

उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने वियतनाम की अपनी चार दिवसीय आधिकारिक यात्रा के अंतिम चरण से पूर्व, वियतनाम के प्रधानमंत्री श्री गुयेन जुआन फुक के साथ कई मुद्दों पर वार्तालाप किया। वार्ता के दौरान, उच्च स्तरीय संबंधों को और मजबूत बनाते हुए क्षेत्र में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने हेतु दोनों देशों के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने के महत्व पर जोर दिया गया।

प्रधानमंत्री के साथ अपनी वार्ता के दौरान उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने   जोर देते हुए कहा बौद्ध और हिंदू धर्म के बंधनों से भारत और वियतनाम के बीच सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण संबंध मजबूत हुए हैं। उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू 12 मई को वेसाक समारोह के 16वें संयुक्त राष्ट्र दिवस पर अपना मुख्य संभाषण भी देगें।

विभिन्न क्षेत्रों में दो राष्ट्रों के बीच बढ़ते सहयोग का उल्लेख करते हुए, श्री नायडू ने वियतनाम के प्रधानमंत्री को जानकारी दी कि उपग्रह और गैर-नागरिक उपयोग दोनों के लिए भारत उपग्रह निर्माण में वियतनाम के साथ साझेदारी के लिए तैयार है। उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि वियतनाम की आवश्यकता के अनुसार भारत, वियतनाम के रक्षा बलों के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण में सहयोग के लिए भी प्रतिबद्ध है।

द्विपक्षीय व्यापार पर, उपराष्ट्रपति ने 2020 तक 15 बिलियन अमरीकी डालर के लक्ष्य को प्राप्त करने का विश्वास जताया।

श्री नायडू ने कहा कि भारतीय कंपनियाँ नवीकरणीय ऊर्जा और ऊर्जा संरक्षण, बुनियादी ढाँचे, कृषि, कृषि उत्पाद, कपड़ा, फार्मा और तेल और गैस जैसे उभरते क्षेत्रों में वियतनाम में निवेश करने की उत्सुक है। श्री नायडू ने प्रधानमंत्री को जानकारी देते हुए कहा कि भारत इस दिशा में आने वाली व्यापारिक बाधाओं और बाजार पहुंच से संबंधित विभिन्न मुद्दों के समाधान के लिए प्रतिबद्ध है।

वियतनाम में भारतीय फार्मास्युटिकल उत्पादों के प्रवेश की सुविधा के लिए प्रधानमंत्री से अपील करते हुए,उपराष्ट्रपति ने उन्हें आश्वासन दिया कि भारतीय कंपनियां वियतनाम में सस्ती कीमत पर सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए उच्च तकनीकी से युक्त स्वास्थ्य प्रणाली और दवाएं प्रदान कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि इससे स्वास्थ्य सेवाएं सस्ती होंगी और वियतनाम सरकार पर बीमा का बोझ कम होगा।

वियतनाम में तेल और गैस अन्वेषण के संदर्भ में श्री नायडू ने ओवीएल (ओएनजीसी विदेश लिमिटेड) के अनुबंध को 10 वर्ष और बढ़ाने की अपील की,  जो 2023 को समाप्त हो रहा है। उन्होंने कहा कि ओवीएल ने अन्वेषण और खोज में 530 मिलियन अमरीकी डॉलर से अधिक का निवेश किया है। वियतनाम में तेल और गैस की और संभावना को देखते हुए लगभग 136 मिलियन अमरीकी डालर का अतिरिक्त निवेश कर सकता है। यह पेट्रो वियतनाम के साथ साझा उत्पादन अनुबंध में भी दो वर्ष का विस्तार चाहता है।

उपराष्ट्रपति ने 2020-21 के लिए सयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में गैर-स्थायी सदस्यता हेतु वियतनाम के लिए भारत के समर्थन की प्रतिबद्धता को भी दोहराया और सयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन करने के लिए वियतनाम को धन्यवाद दिया।

श्री नायडू ने कहा कि भारत-प्रशांत क्षेत्र को मजबूत बनाने का पक्षधर है। भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए भारत का दृष्टिकोण सागर अर्थात-क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास है।

इससे पूर्व, महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर “मानवता के लिए भारत” कार्यक्रम के तहत भारतीय दूतावास में आयोजित ‘जयपुर फुट आर्टिफिशियल लिम्ब फिटमेंट कैंप’ का उद्घाटन करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि प्राचीन काल से भारत के मूल दर्शन में साझा देखभाल के भाव के अलावा वंचित वर्गों पर ध्यान देने पर रहा है।

श्री नायडू ने भगवान महावीर विकास सहयोग समिति की नि:शुल्क सेवाएं प्रदान करने के लिए सराहना करते हुए कहा कि प्रतिष्ठित जयपुर फुट गतिशीलता और गरिमा की भावना के साथ जीवन जीने की क्षमता की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य कर रहा है।

इससे पूर्व सुबह, उपराष्ट्रपति ने वियतनामी क्रांतिकारी नेता हो ची मिन्ह की समाधि पर जाकर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी।

उपराष्ट्रपति ने नेशनल कन्वेंशन सेंटर में वियतनाम की नेशनल असेंबली की अध्यक्ष सुश्री गुयेन थी किम नगन की मेजबानी में आयोजित गाला डिनर कार्यक्रम में भी भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.