ग्लोबल आयुष निवेश और नवाचार शिखर सम्मेलन के दौरान प्रमुख आयुष श्रेणियों में 9000 करोड़ रुपये से अधिक के आशय पत्र को अंतिम रूप दिया गया

GAIIS Witnesses Letter of Intents worth more than RS.9000 Crore in Major Ayush Categories

22 APR 2022

गुजरात के गांधीनगर में आयोजित भारत के पहले वैश्विक आयुष निवेश और नवाचार शिखर सम्मेलन 2022 में एफएमसीजी, मेडिकल वैल्यू ट्रैवल (भारत में हील), फार्मा, प्रौद्योगिकी और निदान और किसान तथा कृषि जैसी प्रमुख श्रेणियों में 9000 करोड़ रुपये से अधिक के आशय पत्र (एलओआईएस) को अंतिम रूप देकर इतिहास रचा है।

आयुष क्षेत्र में इस स्तर के पहले प्रमुख कार्यक्रम में अंतर्राष्‍ट्रीय और राष्ट्रीय संस्थानों तथा अन्य विभिन्न क्षेत्रों के साथ समझौतों की सुविधा प्रदान की गई, वित्तीय विचारों को बढ़ावा दिया गया, पारस्परिक अनुसंधान और वैश्विक स्तर पर आयुष की पहुंच में वृद्धि हुई है।

एफएमसीजी से 7000 करोड़ रुपये, मेडिकल वैल्यू ट्रैवल (एमवीटी) से लगभग 1000 करोड़ रुपये, फार्मा सेक्टर से लगभग 345 करोड़ रुपये, किसान और कृषि श्रेणी के लिए 300 करोड़ रुपये और प्रौद्योगिकी तथा नैदानिक श्रेणी में लगभग 60 करोड़ रुपये निवेश के आशय पत्र शामिल हैं। ।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में 20 अप्रैल 2022 को आयोजन के उद्घाटन सत्र के दौरान पांच महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए।

आयोजन के दौरान, केंद्रीय आयुर्वेद विज्ञान अनुसंधान परिषद (सीसीआरएएस), आयुष मंत्रालय और देश के विभिन्न प्रतिष्ठित अनुसंधान संस्थानों के बीच कुल 12 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए। संस्थानों में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईआईटी दिल्ली, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईआईटी गुवाहाटी, आईसीएमआर, एनआईटीएम, एआईआईएमएस, सीएसआईआर, एनआईपीईआर, एनआईएमएचएएनएस, जेएनयू, आईसीजीबी, एवीपी, टीडीयू शामिल हैं।

जीएआईआईएस के पहले अध्याय में अमूल, डाबर, काम आयुर्वेद, एकॉर्ड, आयुर वैद, प्राकृतिक उपचार, एम्ब्रो फार्मा और पतंजलि सहित 30 से अधिक एफएमसीजी कंपनियों की बहुत उत्साहजनक भागीदारी दिखाई दी। इससे लगभग 5.5 लाख रोजगार सृजित होने की उम्मीद है। इससे 76 लाख से अधिक लोगों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव होगा। 

आयुष मंत्रालय के राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड (एनएमपीबी) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में किसान समूहों और उद्योग के बीच 50 से अधिक समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान किया गया। इसमें 6300 से अधिक किसान शामिल होंगे और इन समझौतों के माध्यम से 4.5 हजार मीट्रिक टन उत्पादन होने की उम्मीद है।

अंतर्राष्ट्रीय समझौता ज्ञापनों में से एक आयुष मंत्रालय के राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ (आरएवी) और फ़ंडैसिओन डे सालुडो आयुर्वेद प्रेमा (आयुर्वेद प्रेमा हेल्थ फाउंडेशन), अर्जेंटीना के बीच “आयुर्वेद में एक अकादमिक सहयोग की स्थापना” के क्षेत्र में किया गया। यह विभिन्न आयुर्वेद पाठ्यक्रमों में मान्यता और पाठ्यक्रम विकास में निरंतर सुधार के लिए उपयोग किए जाने वाले ऑडिट प्रमाणन निकाय बनाने में मदद करेगा।

आयुर्वेद में अकादमिक सहयोग की स्थापना पर अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए), फेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ रियो डी जेनेरियो (यूएफआरजे), ब्राजील और ब्राजीलियाई एकेडमिक कंसोर्टियम फॉर इंटीग्रेटिव हेल्थ (सीएबीएसआईएन), ब्राजील के बीच त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। यह समझौता ज्ञापन अनुसंधान में सहयोग को बढ़ावा देगा, ब्राजील में आयुर्वेद के प्रयोग में सुरक्षा का समर्थन करेगा।

आयुष मंत्रालय के अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान और यूनिवर्सिटी हेल्थ नेटवर्क, टोरंटो (यूएचएन), कनाडा के बीच फेलोशिप और स्नातक विद्यार्थी प्रशिक्षण तथा चिकित्सा डॉक्टरों और संबद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों आदि के प्रशिक्षण के लिए आपसी सहयोग का पता लगाने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए गए।

आयुष मंत्रालय द्वारा यूनिवर्सिडैड ऑटोनोमा डी न्यूवो लियोन (यूएएनएल), मेक्सिको में आयुर्वेद चेयर की स्थापना के लिए चौथे समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इस समझौते के माध्यम से विश्वविद्यालय में आयुर्वेद शिक्षा में एक आयुर्वेद चिकित्सक की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। एक विश्वसनीय स्रोत के रूप में कार्य करने के लिए आयुर्वेद और अन्य पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली के क्षेत्र में सहयोग पर आयुष मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त निकाय, फिलीपीन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रेडिशनल एंड अल्टरनेटिव हेल्थ केयर (पीआईटीएएचसी), फिलीपींस और एनआईए, जयपुर के बीच ब्राजील में आयुर्वेद से संबंधित जानकारी के एक समझौते का आदान-प्रदान किया गया।

अंतर्राष्‍ट्रीय आदान-प्रदान के अलावा, पूरे भारत में 35 से अधिक छावनी क्षेत्रों में आयुष सुविधाएं शुरू करने के लिए आयुष मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। आयोजन के दौरान, मंत्रालय ने संयुक्त पीएचडी कार्यक्रमों और आयुष में यांत्रिक अध्ययन के लिए सीएसआईआर के साथ परस्पर सहयोग को बढ़ावा देने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ एक सहयोग ज्ञापन का आदान-प्रदान किया गया।

यह आयोजन समग्र रूप से आयुष क्षेत्र के संभावित अवसरों और संभावनाओं की खोज में लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए आयोजित किया गया था। इस आयोजन ने राष्ट्रीय और आंतरिक, दोनों क्षेत्रों में इस क्षेत्र के विकास का मार्ग प्रशस्त करने में अपनी प्रभावशीलता साबित की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.