आईएचजीएफ का 52वां संस्करण समपन्न – डॉ सैयद ज़फ़र इस्लाम सांसद ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनी पुरस्कार प्रदान किया

DR. SYED ZAFAR ISLAM GIVES AWAY BEST DISPLAY AWARDS - 52nd EDITION OF IHGF CLOSES

शानदार बिजनेस इंक्वाइरी के साथ आईएचजीएफ-दिल्ली मेले के 52वां संस्करण समपन्न हुआ.

खरीदारों का मानना है कि यहां के लोगों की क्षमता और हस्तशिल्प उत्पाद विश्व का सबसे पसंदीदा सोर्सिंग प्लेटफॉर्म है.

डॉ सैयद ज़फ़र इस्लाम, माननीय सांसद, ने समापन समारोह की शोभा बढ़ाते हुए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनी पुरस्कार प्रदान किया.

मेले में लगभग1850 करोड़ रुपए की बिजनेस इंक्वाइरी हुई.

31 अक्टूबर 2021:

आईएचजीएफ दिल्ली मेले का 52वां संस्करण, समापन समारोह और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनी पुरस्कार के साथ विशिष्ट अतिथियों डॉ सैयद जफर इस्लाम, माननीय सांसद (राज्य सभा) और श्री सुनील भराला, अध्यक्ष /माननीय राज्य मंत्री, श्रम कल्याण परिषद, उत्तर प्रदेश सरकार, की उपस्थिति में संपन्न हुआ. माननीय अतिथियों ने मेले में सर्वश्रेष्ठ डिजाइन और प्रदर्शनी के लिए अजय शंकर और पी.एन. सूरी मेमोरियल अवार्ड्स की सराहना की. उन्होंनें अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि मेले को आशावादी नजरिए, श्रेणी की विविधता, हस्तशिल्प उद्योग के लचीलापन ने सफल बनाया है। समारोह में श्री राजकुमार मल्होत्रा, चेयरमैन, ईपीसीएच, श्री कमल सोनी उपाध्यक्ष ईपीसीएच; डॉ. राकेश कुमार, महानिदेशक, ईपीसीएच और अध्यक्ष, आईईएमएल; ईपीसीएच कमिटी ऑफ़ ऐड्मिनिस्टरेशन, पुरस्कार विजेता प्रतिभागी और श्री आर के वर्मा, कार्यकारी निदेशक, ईपीसीएच उपस्थित थे.

अपने संबोधन में, डॉ सैयद जफर इस्लाम ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई देते हुए उनके प्रयासों के लिए उनकी प्रशंसा की। उन्होंने देश का प्रतिनिधित्व कर रहें सक्षम और अत्यधिक कुशल कारीगरों और शिल्पकारों के सहयोग के लिए उद्यमियों और निर्माता-निर्यातकों की सराहना की. उन्होंने कहा ” देश में बेहतरीन कारीगर हैं, देश की मिट्टी से हैं!” टीकाकरण को मील का पत्थर बताते हुए, उन्होंने कहा कि कई देशों को भरोसा नहीं था कि भारत जैसा विकासशील देश इसे हासिल कर सकता है. लेकिन अपनी कड़ी मेहनत से माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने असंभव को संभव बनाया है। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री की “वोकल फॉर लोकल” और “मेक इन इंडिया” योजना स्थानीय ब्रांडों को वैश्विक मंच पर ले जाने में सक्षम है. इन कार्यक्रमों के तहत नए योजनाओं की घोषणा की जाएगी जिससे कारीगरों को और भी अधिक लाभ होगा। उन्होंने हस्तशिल्प क्षेत्र के लिए सराहनीय और अनुकरणीय कार्य करने के लिए ईपीसीएच की सराहना की। डॉ इस्लाम ने उद्योग के हितधारकों को आश्वासन दिया कि उन्हें चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। उनके व्यवसाय के लिए उपयुक्त वातावरण बनाना सरकार के एजेंडे में है।

श्री सुनील भराला, अध्यक्ष/माननीय राज्य मंत्री, श्रम कल्याण परिषद, यूपी सरकार ने स्थानीय उत्पादों को खरीदने के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि चीन से आयात कम से कम किया जाना चाहिए। “इस दिवाली, हमें अपने कारीगरों से उपहार खरीदना चाहिए ताकि वे भी महामारी के बाद की अवधि में फल-फूल सकें। भारतीय उत्पाद काफी आकर्षक हैं और कोई अन्य बाजार उनका मुकाबला नहीं कर सकता।

श्री राजकुमार मल्होत्रा, अध्यक्ष-ईपीसीएच ने महामारी के बाद की चुनौतियों के बारे में बताते हुए कहा कि मेले के आयोजकों और हितधारकों के साथ बहुत चर्चा के बाद, ईपीसीएच ने मेले को फिसिकल रूप से आयोजित करने का साहसिक निर्णय लिया है। समारोह में आने और संबोधन के लिए उन्होंनें डॉक्टर जफर इस्लाम का आभार व्यक्त किया.

अपने संबोधन में, डॉ. राकेश कुमार, महानिदेशक-ईपीसीएच और अध्यक्ष-आईईएमएल ने डॉ. सैयद जफर इस्लाम को समय निकाल कर मेले में आने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा उनके समर्थन ने इस क्षेत्र को बाधाओं को दूर करने में मदद की है. उन्होंने एक खरीदार का हवाला देते हुए कहा कि ”भारत ने धमाकेदार शुरुआत की है.’ इस मेले की सफलता ने दुनिया को एक बड़ा संदेश दिया है. उन्होंने कोविड टीकाकरण में 100 करोड़ की उपलब्धि हासिल करने पर माननीय प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए आगे कहा, “इस मील के पत्थर के कारण ही यह मेला इतना सफल हो सका,भविष्य हमारा है!”

डॉ. कुमार ने आगे बताया, दुनिया के कई हिस्सों में यात्रा प्रतिबंधों के बावजूद, आईएचजीएफ दिल्ली मेले के इस संस्करण में खरीदारों की भीड़ ने उम्मीदों को पूरा किया है। पिछले कई वर्षों में, बड़ी संख्या में खरीदार और विक्रेता उत्पादों की खरीद और आपूर्ति के लिए IHGF दिल्ली मेले पर निर्भर रहे हैं. यहां की प्रदर्शनी में लगे उत्पाद दुनिया भर के उपभोक्ताओं को पसंद आते हैं। इसलिए दो मौसमों के अंतराल के बाद लगे मेले के लिए खरीदारों ने दूर-दराज से यात्रा की है।

श्री आर.के. वर्मा, कार्यकारी निदेशक-ईपीसीएच ने कहा, “90 देशों के लगभग 1250 विदेशी खरीदारों और 1100 से अधिक बायिंग कंसल्टेंट्स  मेले में आए. मेले में rs.1850 करोड़ की बिजनेस इंक्वाइरी हुई। खरीदारों में यूएसए, यूके, यूएई, फ्रांस, जर्मनी, नीदरलैंड, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, ग्रीस, इटली, स्वीडन, रूस, जापान, ऑस्ट्रेलिया, चीन, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, इज़राइल, सऊदी अरब, तुर्की, कनाडा, ब्राजील, और बहुत से दूसरे देश के लोग हैं।

मेले ने प्रदर्शकों, खरीदारों, आयोजकों और अन्य सभी हितधारकों का मनोबल बढ़ाया है। अपने अनुभव को साझा करते हुए, एक प्रदर्शक ने कहा है, “ईपीसीएच ने हमें एक ऐसा मंच दिया है जहां हम बेहतर व्यापार संबंध बना सकते हैं. इस समय मेले का आयोजन करना चुनौतीपूर्ण था, लेकिन जैसा कि सब देख सकते है, यह संभव हुआ है”। एक अन्य ने कहा, “बिजनेस की गुंजाइश बनी है क्योंकि महामारी के बाद अलग-अलग खरीदारों से अलग-अलग मांगें आ रही हैं।“ दुनिया के कई हिस्सों में यात्रा प्रतिबंधों के बावजूद, आईएचजीएफ दिल्ली मेले के इस संस्करण में खरीदारों की भीड़ अप्रत्याशित है।

स्वीडन के एक खरीदार इलियास वाल्बो इस मेले को भारतीय आपूर्तिकर्ताओं के लिए  प्रेरणादायी बताते हुए कहा, “मैं 2005 से इस मेले में आ रहा हूं इसलिए मेरे पास नियमित आपूर्तिकर्ताओं का आधार है। महामारी ने व्यापार को प्रभावित किया है लेकिन इस मेले के माध्यम से सोर्सिंग जारी रहेगी, ” बेल्जियम के क्रिस्टोफ़ डोनकेल्स ने कहा, मैं गैप के बाद वापसी करके खुश हूं। अद्भुत उत्पाद प्रदर्शनr के साथ अच्छी व्यवस्थाएँ हैं, ”

चार दिवसीय कार्यक्रम के दौरान आने वाले गणमान्य व्यक्तियों में; श्री रामदास अठावले, माननीय केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री; श्री गजेंद्र सिंह शेखावत, माननीय केंद्रीय जल शक्ति मंत्री; श्री राजीव चंद्रशेखर, माननीय केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री; श्री सैयद शाहनवाज हुसैन, माननीय उद्योग मंत्री, बिहार सरकार; श्री यू.पी. सिंह, सचिव, कपड़ा मंत्रालय; श्री शांतमनु, विकास आयुक्त (हस्तशिल्प) और अन्य विशिष्ट अतिथि शामिल हैं।

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन डिजाइन के लिए अजय शंकर मेमोरियल पुरस्कार विभिन्न श्रेणियों जैसे सजावटी और उपहार (कॉर्पोरेट उपहार सहित) में दिए गए; बाथरूम की उपयोगी वस्तुएँ; लैंप और लाइटिंग सामान; फर्नीचर, फर्नीचर हार्डवेयर और उससे जुड़े दूसरे सामान; मोमबत्तियाँ, अगरबत्ती, पोटपौरी और सुगंधित; फैशन आभूषण और उससे जुड़े सामान; होम टेक्सटाइल्स, फर्निशिंग और फ्लोर कवरिंग; और ईपीएनएस सहित हाउसवेयर, टेबलवेयर, किचनवेयर और होटलवेयर में दिए गए.

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन डिजाइन के लिए अजय शंकर मेमोरियल अवार्ड्स के प्राप्तकर्ता थे: –

बाथरूम से जुड़े सामान की श्रेणी में,

मैसर्स प्रीमियर कलेक्शन, मुरादाबाद के लिए (स्वर्ण) अवार्ड श्री नीरज ढल और श्रीमती शैली ढल्ल ने प्राप्त किया

मोमबत्तियाँ, अगरबत्ती, पोटपौरी और सुगंधित श्रेणी में

मेसर्स बालाजी अगरबत्ती कंपनी, बंगलौर के लिए स्वर्ण अवार्ड श्री आशीष के शाह  ने  प्राप्त किया

सजावटी और उपहार (कॉर्पोरेट उपहार सहित) श्रेणी:

मैसर्स गोयल एक्सपोर्ट्स, दिल्ली के लिए स्वर्ण अवार्ड श्री आशीष सिंघल, श्री किंशुक गोयल और श्री नमित गोयल ने प्राप्त किया

मैसर्स साज, कटक के लिए रजत अवार्ड सुश्री ममता खेमका द्वारा प्राप्त किया

फैशन ज्वैलरी, बैग, स्कार्फ, टाई और एक्सेसरीज कैटेगरी

मेसर्स शैलजा क्रिएशन्स, नई दिल्ली के लिए स्वर्ण अवार्ड सुश्री शैलजा गोयल दने प्राप्त किया

मेसर्स राघव होम फैशन प्रा। लिमिटेड, पानीपत के लिए रजत अवार्ड सुश्री महिमा द्वारा प्राप्त किया गया

होम टेक्सटाइल्स, फर्निशिंग और फ्लोर कवरिंग

मेसर्स कनोडिया ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली के लिए गोल्ड श्री विनय कनोदिया और श्री अश्विनी कनोदिया द्वारा प्राप्त किया गया

मेसर्स नवकर होम, बीकानेर के लिए रजत अवार्ड सुश्री सिमरन सुराना द्वारा प्राप्त किया गया

लैंप और लाइटिनिंग श्रेणी

मेसर्स ओपुलेंज डिजाइन, गाजियाबाद के लिए स्वर्ण अवार्ड सुश्री शिल्पा एम बुद्धिराज द्वारा प्राप्त किया गया

मेसर्स अशोक इंटरनेशनल एक्सपोर्ट्स, मुरादाबाद के लिए सिल्वर अवार्ड श्री ऋषि रावल द्वारा प्राप्त किया गया

हाउसवेयर, टेबलवेयर, बरतन और होटलवेयर (ईपीएनएस सहित) श्रेणी

मेसर्स प्रेसीसो फैशन, चेन्नई के लिए गोल्ड अवार्ड श्री विकास अग्रवाल द्वारा प्राप्त किया गया

मैसर्स बी.एम. (भारत), मुरादाबाद के लिए रजत अवार्ड श्री राघव जालान द्वारा प्राप्त किया गया

फर्नीचर, फर्नीचर हार्डवेयर और घरेलू सहायक उपकरण

मेसर्स मंगलम आर्ट्स, जयपुर के लिए स्वर्ण अवार्ड श्री चैतन्य रावत द्वारा प्राप्त किया गया

मैसर्स इलीट आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स, जोधपुर के लिए रजत अवार्ड; श्री शैलेश लीला और श्री चिराग लीला द्वारा प्राप्त किया गया

ईपीसीएच देश और दुनिया में हस्तशिल्प के निर्यात को बढ़ावा देने और हस्तशिल्प वस्तुओं और सेवाओं की उच्च गुणवत्ता के विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता है. यह विदेशों में भारत की छवि पेश करने वाली नोडल एजेंसी है। चालू वित्त वर्ष के छह महीनें, अप्रैल से सितंबर, 2021-22 के बीच तक हस्तशिल्प का निर्यात पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 60.34% से अधिक की वृद्धि दर्ज करते हुए 15995.73 करोड़ था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.